X Close
X

जापान चुनाव: पीएम नरेंद्र मोदी ने शिंजो आबे को दी जीत की बधाई


PM_modi-congratulates-shizo-on-his-win-231017
Nongstoin:दिल्ली:  मोदी ने ट्वीट कर कहा कि मेरे प्यारे दोस्त शिंजो आबे को इस अभूतपूर्व जीत पर हार्दिक बधाई। भारत, जापान संबंधों में मजबूती बढ़ाने की उम्मीद है।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे को आम चुनाव में संभावित जीत के लिए बधाई दी। जापान में रविवार को आम चुनाव हुए थे। मोदी ने ट्वीट कर कहा, ‘‘मेरे प्यारे दोस्त शिंजो आबे को इस अभूतपूर्व जीत पर हार्दिक बधाई। भारत, जापान संबंधों में मजबूती बढ़ाने की उम्मीद है।’’ जापान के सार्वजनिक प्रसारक एनएचके के एग्जिट पोल में आबे के गठबंधन को अभूतपूर्व जीत मिलती दिख रही है, जिसके बाद मोदी ने उन्हें बधाई दी। एग्जिट पोल में आबे की कंजर्वेटिव लिबरल डेमोक्रेटिक पार्टी (एलडीपी) को संसद की 465 सीटों में से 253 से 300 सीटें मिलने की संभावना जताई गई है। देश में रविवार को संसद की 465 सीटों पर चुनाव हुए थे।
चुनाव के आधिकारिक नतीजे सोमवार को ही आने की संभावना है। इस जीत से प्रधानमंत्री शिंजो आबे को विश्व की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने और उत्तर कोरिया पर उनके पहले से कड़े रूख को मजबूत करने में मदद मिल सकती है। जापानी दैनिक ‘योमिउरी’ की वेबसाइट पर दी गई खबर में कुछ समय पहले कहा गया कि आबे भारी जीत की तरफ बढ़ रहे हैं। अभी यह स्पष्ट नहीं हो पाया है कि क्या आबे का गठबंधन दो तिहाई सीटें जीतने में सफल होगा। दो तिहाई का मतलब 310 सीटें जीतने से है। चुनाव में इस जीत से उत्तर कोरिया के परमाणु खतरे से निपटने के आबे के संकल्प को ताकत मिल सकती है। जापान अमेरिका का प्रमुख क्षेत्रीय सहयोगी और एशियाई की प्रभावशाली अर्थव्यवस्था है।
रविवार को जापान में सुबह सात बजे (स्थानीय समयानुसार) मतदान केंद्र खुले और लोग तेज हवाओं और मूसलाधार बारिश से जूझते हुए मतदान केन्द्रों में पहुंचे थे। आबे की लिबरल डेमोक्रेटिकट पार्टी (एलडीपी) को कमजोर विपक्ष का फायदा हुआ है। उनके सामने खड़ी दो प्रमुख पार्टियां कुछ सप्ताह पहले ही बनीं। कुछ हफ्ते पहले तोक्यो की गवर्नर यूरिको कोइके ने ‘पार्टी ऑफ होप’ का गठन किया था। इस पार्टी को 50 सीटें मिलने का अनुमान लगाया गया है। इस बार संसद के निचले सदन के लिए 1180 उम्मीदवार 465 सीटों के लिए अपनी किस्मत आजमा रहे हैं। बीते साल कानून में जो बदलाव किया गया था, उसके मुताबिक रविवार के चुनावों में निचले सदन के लिए पहली बार 18 व 19 साल के युवा भी मतदान किया है..
(SAPTAHIK FOCUS SAMACHAR)